अमृतसर के रास्ते दौड़ेगी जबलपुर-अटारी स्पेशल ट्रेन

दिंनाक: 05 Apr 2016 12:40:49


जबलपुर से अमृतसर होते हुए अटारी तक सीधी ट्रेन की बहुप्रतीक्षित मांग मंगलवार को पूरी हो गई। सुबह 9.28 मिनट पर स्पेशलट्रेन अटारी के लिए रवाना हुई। पहली बार अटारी जाने वालीट्रेनको लेकर सिख समाज में खासा उत्साह रहा। कीर्तन कर ट्रेन को रवाना किया गया। इस अवसर पर मेरे साथ राज्यमंत्री शरद जैन, विधायक अशोक रोहाणी, पूर्व मंत्री हरेन्द्रजीत सिंह बब्बू, महापौर डॉ. स्वाति गोडबोले, मनोनीत विधायक श्रीमती लोबो, विधायक इंदु तिवारी एवं भाजपा नगर अधयक्ष श्री जी एस ठाकुर के साथ ही बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता के साथ ही आम जनता उपस्थित थी।

सिख समाज ने स्टेशन के प्लेटफार्म नम्बर छह के बाहर यात्रियों को मुफ्त चाय बांटकर खुशी का इजहार किया। ट्रेन को दुल्हन की तरह सजाया गया था।

अटारी (अमृतसर) के लिए ट्रेन चलाने लंबे समय से जबलपुर सहित आसपास के एरिया से डिमांड आ रही थी। जिसके बाद रेलवे ने इसकी शुरुआत कर दी। यह ट्रेन सप्ताह में तीन दिन चलेगी। जो कटनी, दमोह, सागर, बीना होते हुए अटारी जाएगी।

16 कोच वाली ट्रेन नई दिल्ली तक का 910 किलोमीटर का सफर 15 घंटे 5 मिनट में पूरा करेगी। नई दिल्ली से इसे अटारी तक 480 किलोमीटर की दूरी तय करने में ट्रेन को 10 घंटे 45 मिनट लगेंगे।

7 वर्षों से अमृतसर के लिए ट्रेन की मांग सिख समुदाय एंव जबलपुर की जनता द्वारा की जा रही थी ओर इसके लिये हमने लगातार प्रयास भी किये जिसके परिणाम स्वरुप जबलपुर से अटारी तक स्पेसल ट्रेन 3 माह तक चलाने का निर्णय पश्चिम मध्य रेलवे द्वारा किया गया। यह ट्रेन 3 माह के लिए चलायी जा रही है और आने वाले समय में स्थायी ट्रेन के लिए दिशा तय करेगी। यदि पैसेंजर रिस्पांस अच्छा मिलता है तो आने वाले समय में इसे नियमित कर दिया जायेगा।

अमृतसर में स्थित स्वर्ण मंदिर सिक्ख समुदाय के साथ-साथ जबलपुर में निवासरत् सभी समुदाय के लोगों का आस्था का केंद्र है। साथ ही जबलपुर से पंजाब के प्रमुख शहरों में होने वाले व्यापार की दृष्टि से भी इस ट्रेन का लाभ जबलपुर निवासियों को मिलेगा। साथ ही अटारी में स्थित बाघा बार्डर में होने वाली ऐतिहासिक बीटिंग रिट्रीट को देखने का अवसर भी यात्रियों को मिलेगा।

मैं पश्चिम मध्य रेल जोन के महाप्रबंधक श्री चंद्रा, सहायक महाप्रबंधक श्री द्विवेदी, मंडल रेल प्रबंधक सुनील कुमार सहित सभी अधिकारियों को धन्यवाद देता हूँ और सिक्ख समाज एवं जबलपुर की जनता को इस स्पेशल ट्रेन के प्रारंभ होने की बधाई देता हूँ।